हिम्मत शाह की जीवनी (Himmat Shah)

हिम्मत शाह(Himmat Shah) का जन्म-

22 जुलाई 1933 ई. लोथल गुजरात में हुआ था

कला शिक्षा –

इन्होंने कला की प्रारंभिक शिक्षा घडशाला भाव नगर गुजरात से प्राप्त की इसके बाद सर जे. जे. स्कूल ऑफ आर्ट्स मुंबई  में अध्यन किया  हिम्मत शाह ने बड़ौदा में नारायण श्री धर बेंद्रे के जी सुब्रमण्यम से कला की शिक्षा ग्रहण की यह ग्रुप है 1890 के सदस्य भी रहे फ्रांस सरकार से मिली छात्रवृत्ति के तहत अध्ययन हेतु आप पेरिस गए सन 2000 ईस्वी में इन्होंने जयपुर में स्टूडियो की स्थापना की

हिम्मत शाह(Himmat Shah) की मूर्ति कला का माध्यम –

इन्होंने अहमदाबाद के सेंट जो वियर स्कूल ईट, सीमेंट, व कंक्रीट से मयूर म्यूरल बनाया इन्होंने टेराकोटा और का स्म मैं मूर्ति शिल्पो की रचना की

पुरस्कार –

साहित्य कला परिषद पुरस्कार, राष्ट्रीय कालिदास पुरस्कार, गगन अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया

प्रमुख मूर्ति शिल्प –

शीर्षक हीन हैंड – यह शिल्प का का स्म धातु से निर्मित है चेहरे पर आंखें गोलाई लिए हुए नाक लंबी एवं मुंह छोटा बनाया गया है साइड में हल्की व गहरी रेखाओ के द्वारा क्रॉस निशान बनाया है यह सरलता व प्रतीकात्मक के गुणो को प्रदर्शित करता है

Spread the love