शराबी – मैं ससुराल जा रहा हूं, सोच रहा हूं दारू छोड़ दूं

गोलू – यह तो बहुत अच्छी बात है, इसमें सोचने की क्या जरूरत?

शराबी– पर मेरे सारे दोस्त कमीने हैं, किसके पास
छोडूं?

रमन, अमन विहार

Spread the love

By